World's Largest Youth Network

परियोजनायें

फोटोग्राफ

कश्मीरी युवा आदान प्रदान कार्यक्रम

"कश्मीरियत, जम्हूरियत और इंसानियत' (कश्मीरी लोगों की सामाजिक चेतना और सांस्कृतिक मूल्य, लोकतंत्र और मानवता), उन्होंने कहा "मैं इन तीन मंत्रों का पालन करना चाहूंगा, जो कश्मीर के विकास के स्तंभ हैं। सूफ़ी परंपरा का उदय इसी भूमि से हुआ है और इस परंपरा ने हमें अखंडता और एकता की शक्ति से परिचित कराया है।" .

श्री नरेन्द्र मोदी, माननीय प्रधानमंत्री, भारत

परिचय

युवा, लोकतंत्र एवं विकास को मजबूती प्रदान करने के लिए जीवंत और प्रमुख मानव संसाधन हैं तथा इसी कारण से ये सभी युवा देश में सामाजिक और आर्थिक परिवर्तन लाने वाले प्रमुख एजेंट हैं। देश के सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक परिवेश और इसके विकास की प्रक्रिया में बड़ी संख्या में युवाओं की भागीदारी और सहभागिता की आवश्यकता है।

कश्मीर घाटी में युवाओं की भूमिका और जिम्मेदारी अद्भुत रही है। वे राष्ट्र की शान हैं और उन्हें वास्तविक संपत्ति के रूप में माना जाता है। उनके पास अभिनव विचार और राय हैं। उनके पास राज्य की कार्य प्रणाली में सकारात्मक परिवर्तन लाने की क्षमताएं और योग्यताएं हैं। हालांकि, वर्तमान परिदृश्य में उन्हें सही दिशा की जरूरत है, जो उन्हें जम्मू-कश्मीर राज्य तथा उनकी मातृभूमि-भारत के लिए अपने दृष्टिकोण को समझने और उन्हें, उनकी ताकत की पहचान करने में मदद करें।

कश्मीर दुर्बल सामाजिक-राजनीतिक परिदृश्य, लगातार हिंसक संघर्ष, आतंकवाद और अस्थिरता से प्रभावित हुआ है, जिसने स्थानीय आबादी, विशेष रूप से युवाओं के बीच अनिश्चितता की एक गहरी भावना को पैदा किया है। कश्मीरी युवा इसी प्रतिकूल माहौल में बड़े हुए हैं और उन्हें जबर्दस्त तनाव का सामना करना पड़ा है। इसलिए नेहरू युवा केंद्र के कार्यक्रम के माध्यम से क्रोध, असंतोष और लाचारी की भावना, जो उनमे घर कर गया है - उससे लड़ने का संकल्प किया है ताकि उन्हे देश की मुख्यधारा से जोड़ा जा सके।

प्रवर्तित आतंकवाद के कारण कश्मीर घाटी अनेक समस्याएं का सामना कर रही है और युवा इन्हीं कारणों से दूर होते चले जा रहे हैं। युवाओं के कट्टरपंथी गतिविधियों में शामिल होने के पीछे एक प्रमुख कारण उनके समग्र विकास के विभिन्न अवसरों तक पहुंच की कमी है।

अब सबसे अधिक महत्वपूर्ण यह हो गया है कि युवाओं को सुरक्षित स्थान प्रदान कराया जाए और उनकी ऊर्जा को राष्ट्र निर्माण गतिविधियों में भागीदारी के साथ-साथ और मुख्यधारा की तरफ एकजुट, संगठित और नया मार्ग प्रदान किया जाए।

केंद्र सरकार कश्मीर क्षेत्र में विकास की प्रक्रिया और शांति की पहलों के लिए कई महत्वपूर्ण उपाय कर रही है।

ध्येय एवं लक्ष्य


प्रधान कार्यालय: नेहरू युवा केन्द्र संगठन, युवा मामले एवं खेल मंत्रालय (भारत सरकार)
4 - जीवन दीप भवन, संसद मार्ग, भूतल, दिल्ली - 110 001 (भारत)
दूरभाष : 91-11-23442800

कॉपीराइट 2012 नेहरू युवा केन्द्र संगठन. सर्वश्रेष्ठ IE 7.0, फ़ायरफ़ॉक्स मोज़िला, गूगल क्रोम में देखे